Warning: Use of undefined constant REQUEST_URI - assumed 'REQUEST_URI' (this will throw an Error in a future version of PHP) in C:\xampp\htdocs\mbc1\wp-content\themes\jannah4\functions.php on line 73
Love crisis in UP: Radha-Krishna breaks down in Braj Bhaban – jj
rss

Love crisis in UP: Radha-Krishna breaks down in Braj Bhaban

[ad_1]


Tajmahal lover

June 11 Newgaon, Eta: Satyaprakash Yadav and Sapna Yadav, hanging from the mango tree (Name changed)

June 24, Ganeshpur, Mainpuri: The bodies of Aman Yadav and Rekha Yadav (renamed name) were found in the bodies of bush

June 27 Khairagarh, Agra: Shyamveer Tomar and his girlfriend Neha Kushwaha (renamed name) found dead bodies in the field

July 01, the bloodshed of Soros, Kasganj, Kunwarpal Lodhi and his girlfriend found

This is the Brajabhoomi, which is reddened by the blood of lovers, on which the Taj Mahal is the pilgrimage of lovers around the world.

Radhakrishna's love songs are sung in the house of this Braj area, but now there are stories of lovers writing death stories.

Believing that there is an undiscovered war going on inside the houses in which the young men and women standing on the threshold of youth are on one side and on the other hand their own kin

In recent days many cases of murder of lovers have been reported in the name of honor from Agra and surrounding districts.

Manoj Chaturvedi, senior journalist at Mainpuri, says, "The children of innocent children are being confronted in the conflict between the courage of the poor and the respected families."

Shyamveer

Image caption

Shyamveer and his minor girlfriend were killed and thrown into the farm

It was not even on the morning of 27th June that tension spread by seeing the bodies of a young man and minor teenager in the village Nagla Gorau of Khairagarh Police Station in Agra.

The victim was Shyamveer Tomar, who had lost her beloved Neha Kushwaha.

At four in the morning, the head of the village came to Shyamveer's house and said, 'Your child is dead.'

Shyamveer's mother says, 'I kept pestering my head in pain, but no one took me to my child.'

Shyamveer's family is a farmer from Thakur and profession. He used to love a minor girl of Kushwaha caste of nearby village.

There was talk in the village about the love of Thakur boy and Kushwaha girl. Once Panchayat was also done and it was explained to not meet the other caste girl.

But his family is not ready to believe that he used to love the girl who was killed with him.

On the question of marriage, her mother says, "How do you marry such a marriage, she is a liar, we are Thakur."

All of a sudden his mother starts crying while talking. In a shocking voice she says, "My child was killed in love."

Agra police have considered the death of Shyamveer and Neha in the name of honor.

Shyamveer's brother Omvir's mobile has photos and videos related to brother's death.

Shyamveer's girlfriend's house

Image caption

Shyamveer's girlfriend is now locked in the house

He says, "My brother was very upset and killed, when I see these pictures, he starts bleeding, it is very crying, it seems that either kill the killers or die on their own."

Five people, including Neha's father, mother and sister, have been arrested in this case. The front panel is still in progress.

According to Agra Superintendent of Police Joginder Singh, Neha's father has accepted the charges of murder.

At the same time, Shyamveer's family says that he had close relations with Neha's family. The fields of both families were also engaged in each other and also had to come to the house.

Just some of the fields are found in the villages of Neha's village, Kachpura Gorou and Shyamveer's village Nagla Gorau.

In these fields, occasional meetings of Shyamveer and Neha would have been done.

the lover

Police investigations have revealed that Shyamveera had come to meet Neha late night. Seeing him with Neha, the angry couple kills both of them.

In Neha's house, there is now a silence. Half of the family is arrested and others are fugitives.

An old lady here says, "It is very bad, it looks as if the village has got ruined. Something is not good, the fear has spread."

This village is not ready to talk about silence and fear. People in the subdued tongue say that whatever happened is bad.

Some people say in a tone, "Our elders and our rites do not allow such things."

An elderly person from the village of Shyamveer says, "If he had taken hold of him then he would beat him, he would break his legs and give it to the police, litigate it. Why did he have to take life?"

Another youth says, "The fear has spread since the murder, these murders have been done to spread fear."

Auto

Image caption

Shyamveer was running his auto-feeding his family.

Could this event be prevented? On this question, Rajveer Singh of Nagla Gorou says, "If the girl wanted a family, then this incident could have been stopped, the police, the administration, they did not have to take all the laws in their hands, If there was a need to settle, then the court would merge. If everyone had agreed then the children's house would also be settled. "

The biggest reason behind this phenomenon is the caste. He says, "Because of the caste, both of them could not get married, but the caste did not have such a hassle as to knowingly." This murder has ended the peace of the village, two dead children have died. "

Rajveer says, "Our family has been disgraced by this incident, the village has been disgraced, the caste has become infamous, but the biggest thing is that two children have lost their lives. It should not have been known whether anything has to be done."

Opposed to interracial marriages

Local society here opposes interracial marriages. Usually, interracial marriages are not here. Senior journalist of Agra Bhanu Pratap Singh It is said, "Caste is one of the most effective reasons in the Braj region, one caste is not accepted by another caste. Honor is the biggest issue here. If a girl of a girl marries another girl, then this big case becomes. "

Shyamveer

Image caption

Shyamveer (file photo)

The people of the village say that the police has done all possible work to maintain the peace system after the incident and if there was no heavy presence of the police then there could be some incidents in response to the incident.

There is now a stressful peace in this area. But about a hundred and a half kilometers from here, Ganeshpur village of Mainpuri is still in the guard of the police forces.

It was the evening of June 19. The marriage drum was ringing in the house. Neighbors-relatives were busy. There was everybody's eye on the line going to be the bride.

Hiding, hiding, saving, he left the house and went towards the farm. Aman also fell behind. These lines were the last meeting of both before marriage. But the last day of life proved to be true.

Acid

Image caption

The faces of Aman Yadav and his girlfriend were burnt with acid.

The cousins ​​of the line watched both of them meet. They both killed both of them in charge. Faces were burned to hide the identity. On June 24, the bodies of both of them were found near the village near the bushes. On this day the procession of the line was also to come.

Mainpuri police believed in the incident in Ganeshapur village after the murder of honor killings. The cousins ​​of the dream involved in the murder have been arrested.

Aman and Rekha loved each other for nearly two years. According to a close friend of Aman, the cousins ​​of the line had repeatedly threatened peace and asked them to stay away from the gentle.

Aman met his friend Amit Yadav last time before going missing. Recalling that evening, Amit says, "I was going out of my car and I got the feeling that he was feeling very sad and unhappy." I asked him if he did not say anything, after that he went away. "

According to Amit, 'Line was going to get married and Aman was preparing for her marriage. He also made the line purchase. '

Amit explains, "Before marriage, he wanted to meet the line last time. There was talk of meeting the night between the two, he went to meet and did not return."

Aman

Image caption

Aman

According to the police, the parents of the girl or other family members of the family had no information about this massacre. So far five people have been named in the investigation, two of whom have been arrested and three are absconding.

Om Prakash Singh, Additional Superintendent of Police of Mainpuri, said this as a case of murder in the name of honor, "The accused had seen the girl meeting with peace, all the accused are under 25 years of age. According to the post mortem report, both of them died on the same night (June 19). "

He said, "In this case, relatives have murdered relatives, today's youth want to be free from the bonds of society and society, they are living in a free environment and society is not able to tolerate this freedom."

When asked about why the two were not married, they said, "Both were children of the same family. There are no such marriages in our society."

police line

She says, "The girl was missing for three days, we were not able to eat food due to insult, she was so insulted that she could not get out of the house, she wants to be cut under the rail but can not be cut."

Journalist Manoj Chaturvedi says, "The respect of families is paramount in these areas, first of all is explained to the children, scolded, goes to beat and beaten. But when the family thinks that the matter has gone out of hand then such a terrible step They also get up. "

The biggest impact of the death of the line is on his younger siblings. Her younger sister is surrounded by sadness. The words are stuck in his neck, eyes are crying and crying. Fear is scary when he walks around to work at home, it seems as if some live zombies are running.

Can he go to school further, on this question he barely can say, "If the family members let me go, then surely I will."

Rekha's minor brother is in the shadow since this incident. She says, "We told her family that our daughter is married, give her a girl but sister is not found, we were very humiliated, it was a matter of our respect."

Police officer chasing on the spot

Additional Superintendent of Police Om Prakash says, "We are going to run a campaign for child protection and the counseling of children of the families of the families will also be tried so that they can be recovered from this shock."

From Mainpuri, on the way to Etaga's Newgaon, I met a boyfriend talking about his girlfriend. On 11th June, a boyfriend couple was hanged from the mango tree in the New Nagar police station area.

This young man had read about the incident in the newspaper. Did he fear? He says, "What is the matter of fear, if you have love?"

Her love story began with sharing her number with her girlfriend at a wedding ceremony. Talking has become a habit now and he has lost headphones in his dream world.

He says, "We have not been able to get it, maybe get married only after marriage, just talk, we can not stay without talking, we tell our heart that he tells his heart, wants to marry him. The rest is the wish of the above. "

What do you talk on the phone? She says, "Talk about love, eat it, talk and do what it does. In it, time is laughing and laughing."

To start the journey

Satya Prakash Yadav of Sakta region of Eta and Premna Yadav's love story of Nayagaon area also started on the phone, but it ended with the dead bodies of both the mango trees.

neck's noose

Image caption

The bodies of a lover couple were hanged in the mango tree at Newgaon, Etah

There is a pair of mango trees near a turn on a curved road reaching village Asgarpur Dadu from Nayagaon police station. In the morning of June 11, when the punch broke, dream wearing a yellow suit and Satyaprakash wearing blue shirts hanging from a cast of these mango trees. The feet of both the bodies were touching the ground.

Eyewitnesses immediately called on number one and SHO NP Singh of Nayagaon reached the spot without losing time.

NP Singh explains, "We suspected of murder and the murder case was registered immediately."

The police interrogated the family members of the deceased for several days. His father was detained for seven days and later left for no evidence.

Mango tree

Image caption

Mango tree pair of lover-beloved dead body

However, after examining the post mortem report, initial investigation and Forensic Lab Lucknow, the police are now finding it more suicidal.

Then why did this lover couple commit suicide? The answer is probably the poverty of the family of dreams. She has passed the XII examination this year.

Satyaprakash had taken the dream number of the examination. The talk started and reached crazy. Both started dreaming of marriage.

The mother of the dream says, "The call of that lolla came in. We wanted to marry our daughter, we said that our daughter is not yet married."

She says, "She insisted, I sent my husband to visit her house, she walked 70 kilometers of cycling, she did not talk about it."

The father of the dream explains, "The boy told us that he had three brothers, when I went to his house, he realized that he is a brother and that the land is not too much, he got angry with the fact that I was in his house Did not earn money. "

Mother of the dream says, "She had threatened to call her if she can not marry daughter, then prepare to scarf our chita."

The books

She says, "If we had married Bighiya, then we had given it – if we send the empty hand to the little bitia, then the people of the village society said that Bitia has sold the debt of the first marriage had not landed yet. . बेटी को खाली हाथ कैसे विदा कर देते?"

सपना के मां-बाप बड़ी मशक्कत से उसे पढ़ा रहे थे. वो जैसे-जैसे बड़ी हो रही थी मां-बाप उसमें कमाऊ बेटा देखने लगे थे. उसकी मां कहती हैं, "जैसे-जैसे बड़ी हो रही थी लग रहा था बेटी हमारी ग़रीबी दूर कर देगी.

वो बताती हैं, "पढ़ने में तेज़ थी. क़र्ज़ लेकर उसे पढ़ा रहे थे. परीक्षा के लिए उसके मॉडल पेपर ख़रीदने थे. ढाई सौ रुपए के. हमारे पास नहीं थे तो पड़ोसियों से उधार लेकर मॉडल पेपर ख़रीदवाए."

'फ़र्स्ट क्लास पास हुई थी'

उसने विज्ञान वर्ग की परीक्षा फ़र्स्ट क्लास से पास की थी. जिस गांव में कम ही लड़कियां स्कूल पहुंच पाती हैं वहां की लड़की के लिए ये बड़ी बात थी.

मां-बाप की उम्मीद बंध गई कि बिटिया कुछ न कुछ नौकरी पा ही लेगी और उन्हें क़र्ज़ के जाल से बाहर निकाल लेगी.

मां कहती हैं, "बिटिया लंबी और तंदरुस्त थी और पढ़ने में होशियार थी. दिल्ली में रहने वाला मेरा भाई कहता था कि उसे आगे की पढ़ाई के लिए शहर बुलाएगा और नौकरी के फार्म भरवाएगा."

जिस एक कमरे के घर में सपना का परिवार रहता है उसमें खाली दीवारों और खाली बरतनों के अलावा कुछ भी नहीं है. परिवार के पास संपत्ति के नाम पर एक साइकिल और दो भैंसे हैं.

मां कहती हैं, "हमने सोचा था कि भैंसिया बेचकर बिटिया को पढ़ा लेंगे. अब भैंसिया बेचकर गांव छोड़ना पड़ेगा."

सपना की कोई तस्वीर अब परिवार के पास नहीं है. जो पीला सूट उसने उस दिन पहना था उसे मां ने सहेज कर रख लिया है.

उसके पुराने कपड़ों से वो एक टीशर्ट निकालकर दिखाती हैं जिस पर दो तितलियों के ऊपर ब्यूटी लिखा है.

टी शर्ट

वो कहती हैं, "ये उसे बहुत पंसद थी. बहुत सुंदर लगती थी इसमें. दुकान पर देखते ही ख़रीदने की ज़िद पकड़ ली थी. पैसे थे नहीं हमारे पास. दुकानदार डेढ़ से कम में दे नहीं रहा था और 130 रुपए से ज़्यादा हमारे पास थे नहीं. फिर हमने उसकी मनहार कि तो 130 में दे दी थी उसने."

सपना की मौत ने इस परिवार को तोड़ दिया. लोक-लिहाज के कारण अब उसके मां-बाप घर से नहीं निकल पा रहे हैं.

जब हम उनसे बात कर रहे थे तो आसपास के घरों की छतों पर औरतें इकट्ठा हो गईं. वो छुप-छुप कर देख रहीं थीं.

सपना की मां कहती हैं, "हमारी बिटिया और इज़्ज़त दोनों चली गईं. किसी को मुंह दिखाने के नहीं रहे. छोटे-छोटे बेटे हैं नहीं तो हम भी जान दे देते."

बेटी के मौत के बाद पिता ने भी आत्महत्या की कोशिश की है. वो कहते हैं, "उसी पेड़ से लटकने गया था. बेटों का मुंह देख कर रुक गया."

सपना और सत्यप्रकाश की मौत को पुलिस ने शुरू में ऑनर किलिंग माना था. एटा के पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगई बताते हैं, "11 जून को पुलिस को मिली सूचना बेहद गंभीर थी. दो शव हमें पेड़ से लटकते मिले थे. हमने हत्या का मुक़दमा दर्ज किया और डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम करवाया."

सीएफ़एसएल की टीम

Image caption

सीए़फ़एसएल की टीम ने भी मौके का दौरा किया और घटनाक्रम को रीक्रिएट किया.

"पोस्टमार्टम में मौत की वजह लटकना पाया गया. इसके अलावा शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं मिले. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आत्महत्या की ओर इशारा कर रही थी लेकिन मौके से मिले साक्ष्य हत्या की ओर. हम किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पा रहे थे. तफ़्तीश में भी हत्या के सबूत नहीं मिल पा रहे थे. हमने लखनऊ की फोरेंसिक लैब से मदद मांगी और उन्होंने पूरे सीन को रीक्रिएट किया. सीएफ़एसएल की टीम भी आत्महत्या की ओर ही इशारा कर रही है."

एटा ज़िले के गांव यूं तो आर्थिक तौर पर पिछड़े नज़र आते हैं लेकिन सम्मान यहां के लोगों का असली धन है. शान के लिए बंदूकें रखना भी यहां की संस्कृति है. एटा में 32 हज़ार से अधिक लोगों के पास लाइसेंसी बंदूकें हैं और 50 हज़ार से अधिक लोगों ने लाइसेंस लेने के लिए आवेदन कर रखा है. कंधे पर बंदूक रखे लोगों का रास्तों में दिखना यहां आम बात है. ऐसा लगता है कि बंदूकों के सायों में प्रेम कहानियां दम तोड़ रही हैं.

वरिष्ठ पत्रकार भानु प्रताप सिंह कहते हैं, "यहां बंदूक का प्रभाव भी लोगों की सोच पर बहुत है.घर में भले खाने को न हो लेकिन कंधे पर बंदूक और मूंछे ऊंची चाहिए. बंदूक के लाइसेंस के लिए लोग नेताओं के पीछे पड़े रहते हैं. जो लाइसेंसी बंदूक नहीं ले पाते वो चोरी से ग़ैर क़ानूनी तमंचे तो ले ही लेते हैं."

एटा से कासगंज की ओर जाते हुए रास्ते में सारस पक्षियों के जोड़े खेतों में चुगते हुए दिख जाते हैं. कई बार ये नृत्य भी करते हैं. देखते हुए लगता है जैसे दुनिया से बेपरवाह प्रेमी अपनी ज़िंदगी जी रहे हैं. कोई पास जाए तो वो उड़कर दूर दूसरे खेत में चले जाते हैं. लेकिन इस ब्रजभूमि के प्रेमियों को ये आज़ादी नहीं है.

सारस पक्षी

Image caption

सारस पक्षियों का जोड़ा

कासगंज से क़रीब क़रीब पंद्रह किलोमीटर दूर प्राचीन भागीरथी गुफ़ा है. मिट्टी की इस गुफ़ा के ऊपर एक छोटा सा मंदिर है. जब जब प्रेमियों को मौका मिलता है वो इस मंदिर की दीवारों पर अपनी प्रेम कहानी लिख देते हैं.

अनगिनत प्रेमियों और उनकी प्रेमिकाओं के नाम इस मंदिर की दीवारों पर लिखे हैं. चहचहाते पक्षी, कूकती कोयलें, नृत्य करते मोर यहां के माहौल को और भी प्रेममय बना देते हैं. बस्ती से दूर, जंगल में टीले पर बना ये मंदिर प्रेमियों के मिलने की आदर्श जगह लगता है.

इस मंदिर के पास ही खाली पड़े खेत में एक जुलाई को पास के ही होडलपुर गांव के एक प्रेमी जोड़े के शव पड़े मिले थे. युवक कुंवरपाल को बुरी तरह पीटा गया था. उसकी एक आंख फोड़ दी गई थी, हाथ टूटा था और गुप्तांग काट दिए गए थे. युवती राधा के साथ भी कम बर्बरता नहीं की गई थी.

मंदिर

Image caption

कुंवरपाल और उसकी प्रेमिका के शव को मंदिर के पास खेत में फेंका गया था

यूं तो ये मामला स्पष्ट तौर पर सम्मान के नाम पर हत्या का था लेकिन स्थानीय पुलिस ने इसे शुरू में आत्महत्या माना. स्थानीय एसपी अशोक कुमार शुक्ल का बयान अख़बारों में प्रकाशित हुआ. उन्होंने कहा था, "प्रेमी युगल ने सल्फ़ास खाकर आत्महत्या की है. मौके पर सल्फ़ास के रैपर मिले हैं, हत्या की आशंका निराधार है."

कुंवरपाल के पिता अपने बेटे के शव की तस्वीर दिखाते हुए कहते हैं, "मेरे बेटे का ये हाल कर दिया और पुलिस कह रही है कि उसने अपनी जान ख़ुद दी. वो अपनी जान ख़ुद क्यों देगा?"

वो कहते हैं, "अख़बार में छपा कि हमने तहरीर नहीं दी इसलिए मुक़दमा नहीं हुआ. जब थाने तहरीर देने गए तो पुलिस ने भगा दिया की जांच चल रही है जांच के बाद एफ़आईआर होगी. बिना जांच के ही अख़बार ने छाप दिया कि ख़ुदक़ुशी की है."

कुंवरपाल की कुछ दिन पहले ही शादी हुई थी. लेकिन वो अपने घर के पास ही रहने वाली प्रेमिका से मिलते रहे. गांव के लोग कहते हैं कि यही उनकी हत्या की वजह बना.

मंदिर की दीवारें

लड़की के दादा कहते हैं, "दोनों के प्रेम प्रसंग के बारे में सबको पता था. अलग करने की हर कोशिश भी की. लड़के के घरवालों से खुलकर शिकायत की. मार-मार के कमर भी लाल कर दी लेकिन दोनों नहीं माने. हाथ से बाहर हो गए थे."

मौत का दुख नहीं!

उनकी आंखों में पोती की मौत का दुख नहीं दिखता लेकिन सम्मान जाने का अफ़सोस दिखता है. वो कहते हैं, "उनकी शादी असंभव थी. हम मर जाते लेकिन शादी नहीं होन देते. न पहले कभी ऐसा हुआ है और न इस मामले में होता."

कुंवरपाल और राधा दोनों ही लोध राजपूत समुदाय से हैं और गांववालों की नज़र से देखें तो उनके बीच भाई बहन का रिश्ता था. ये रिश्ता उनके प्रेम के बीच में वो दीवार था जिसे वो बहुत चाहकर भी पार नहीं कर पा रहे थे.

दादा कहते हैं, "लड़के की शादी हो गई थी. लड़की की हम कराने जा रहे थे. तीन रिश्ते देखे थे, एक महीने में शादी कर ही देते लेकिन ये घटना घट गई."

क्या इसे रोका जा सकता था? वो कहते हैं, "दोनों क़ब्ज़े से बाहर थे. उन्हें मरने का डर था इसलिए वो भागते भी नहीं थे. उन्हें पता था कि अगर भागे तो घरवाले मार देंगे. लेकिन मौत उनकी फिर भी आ ही गई."

कुंवरपाल

Image caption

कुंवरपाल की हाल ही में शादी हुई थी लेकिन प्रेमिका से मिलना जारी था

वो कहते हैं, "मारने वाले जानते हैं कि लड़की वाले फंस जाएंगे. हमें फंसाने के लिए बच्चों को मार दिया."

इस तरह की घटनाओं को कैसे रोका जा सकता है? इस सवाल पर वो कहते हैं, "सख़्त से सख़्त निगरानी रखकर. लड़के वाले अपने लड़कों पर नज़र रखें और लड़कियों वाले अपनी लड़कियों पर."

वो अपने परिवार की शान को याद करते हुए कहते हैं, "इज़्ज़त वालों को बस अपनी इज़्ज़त दिखती है और कुछ नहीं दिखता. ये कलयुग है अपना प्रभाव दिखा रहा है. पहले हमारे सामने कोई जवाब नहीं देता था. लड़कियां क्या लड़के देखकर दुबक जाते थे. अब किसी को कोई रोक नहीं पा रहा है.'

पुलिस ने पहले इस हत्याकांड पर पर्दा डालने की कोशिश की. लेकिन बाद में हत्या का मुक़दमा दर्ज कर लिया गया.

कुंवपरपाल की तस्वीर मोबइल में

Image caption

कुंवरपाल के परिवार का आरोप है कि पुलिस ने हत्या के मामले को दबाने की कोशिश की

एफ़आईआर में देरी की वजह बताते हुए कासगंज के नए पुलिस अधीक्षक घुले सुशील चंद्रभान (घटना के दिन ही कासगंज के एसपी का तबादला कर दिया गया था) कहते हैं, "पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने से स्थिति साफ़ हुई है. दोनों बच्चों की हत्या की गई है. हमने हत्या का मुक़दमा पंजीकृत कर लिया है."

इस तरह की घटनाएं अपना एक संदेश भी देती हैं. लेकिन इतने गंभीर मामले में भी पुलिस लापरवाही करके क्या संदेश दे रही है? इस सवाल पर वो कहते हैं, "मैंने चार्ज संभालते ही घटनास्थल का दौरा किया है. हमारा संदेश बहुत स्पष्ट है किसी अपराधी को छोड़ा नहीं जाएगा."

पुलिस अधीक्षक से हमारी बातचीत के कुछ घंटे बाद लड़की के पिता और एक अन्य सहयोगी को गिरफ़्तार कर लिया गया.

आगरा, एटा, मैनपुरी और कासगंज की इन घटनाओं से एक बात स्पष्ट दिखी. इनसे लोगों के दिलों में डर बैठा है, परिवार उजड़े हैं और नई दुश्मनियां पैदा हुई हैं. पुलिस और क़ानून व्यवस्था के लिए ये घटनाएं चुनौती बनती जा रही हैं.

क्या पुलिस इन्हें रोकने के लिए कोई विशेष अभियान चला रही है? एटा के एसपी स्वनिल ममगई कहते हैं, "प्रेम दो लोगों के बीच का निजी विषय है. भारत का संविधान वयस्क नागरिकों को अपनी मर्ज़ी से फ़ैसले लेने की अनुमति देता है. हमारा काम उन्हें सुरक्षा देना है और जब भी हमले सुरक्षा की मांग की जाती है हम देते हैं."

कुंवरपाल के पिता

Image caption

कुंवरपाल के पिता का कहना है कि बेटे की हत्या के बाद अब उनकी जान को ख़तरा है

वो कहते हैं, "एटा ज़िले में प्रति माह 60-70 मामले प्रेम प्रसंगों से जुड़े आते हैं. पुलिस अपनी कार्रवाई करते हुए क़ानून का ध्यान रखती है. जोड़ों की सुरक्षा हमारी पहली प्राथमिकता होती है."

वो कहते हैं, "ऐसी घटनाएं न हों इसके लिए सामाजिक स्तर पर प्रयास करने की ज़्यादा ज़रूरत है. समाज में जागरुकता लाए बिना इन्हें नहीं रोका जा सकता. सबसे अफ़सोसनाक़ ये है कि बेग़ुनाह जानें जा रही हैं."

स्पनिल कहते हैं, "हमारी पहली ज़िम्मेदारी नागरिकों को भयरहित माहौल देना है. नागरिकों में वो युवा भी आते हैं जो प्रेम करते हैं."

लेकिन क्या प्रेमी प्यार करने से डरते हैं? एटा से नयागांव की ओर जाते हुए रास्ते में तालाब में कुछ बच्चे नहाते हुए दिखे.

वो गीत गा रहे थे, "प्रेम करने वाले कभी डरते नहीं, जो डरते हैं वो प्यार करते नहीं."

आए दिन अख़बारों में प्रेमियों की दर्दनाक मौत की ख़बरों के बावजूद प्रेमी प्रेम कर रहे हैं. कुछ छुप कर कर रहे हैं.

कुछ छुपते-छुपाते प्रेम करते हुए पकड़े जा रहे हैं और मारे जा रहे हैं. कुछ ऐसे भी हैं जो हिम्मत करके घर से भागकर हालात बदलने की कोशिश कर रहे हैं.

बीबीसी

Image caption

जैथरा थाने में अपनी 'भागी हुई बेटी' को लेने आई एक मां

ऐसी ही एक घर से भागी एक प्रेमिका हमें एटा ज़िले के जैथरा थाने में मिली. उसकी मां उसे अपने साथ लेने आई है.

फफ़कती हुई मां बेटी को गले लगाने आगे बढ़ी तो बेटी ने धकियाते हुए कहा- हट परे, मेरा कोई नहीं है.

मां रोते हुए बिटिया मेरी, बिटिया मेरी कहती रही और बेटी चीखते हुए दूर हट दूर हट.

महीने भर पहले प्रेमी के साथ गई इस युवती को लंबी भागदौड़ और खोज ख़बर के बाद पुलिस ने 'पकड़ लिया है.'

उसके सर पर प्रेम का भूत सवार दिखता है और वो किसी की कोई बात सुनने को तैयार नहीं.

परिजनों ने उसे नाबालिग बताते हुए अपहरण की शिकायत दी है जबकि वो अपनी उम्र बीस साल बताने पर अड़ी है.

होठों पर लिपस्टिक, माथे पर सिंदूर, कानों में नईं झुमकियां, नया लाल जोड़ा पहने थाने में बैठी इस युवती को सब उत्सुकतावश देख रहे हैं.

लेकिन उसे किसी की कोई परवाह नहीं है. वो ग़ुस्से में तमतमाई हुई है लेकिन उसकी सूजी हुई आंखें बताती हैं कि वो बहुत रोई भी है.

वो कहती हैं, "मैं उन्हें अच्छी तरह से जानती हूं और उन्हीं के साथ जाऊंगी. बाकी दुनिया में किसी से मेरा कोई मतलब नहीं है."

परिजनों ने वकील की सलाह पर सरकारी स्कूल की टीसी (ट्रांसफर सर्टिफ़िकेट) बनवा ली है जिसमें जन्मतिथि 01/07/2004 अंकित है.

यानी यदि इस दस्तावेज़ को क़ानूनी कार्रवाई में स्वीकार कर लिया जाए तो वो नाबालिग है.

Playback can not be done on your device

अंतरजातीय शादियों को बढ़ावा दे रही हरियाणा सरकार

लेकिन वो बार-बार ज़ोर देकर कहती है मैं बीस साल की हूं और जाऊंगी अपने उनके साथ ही.

उन्होंने हाथ पर ओम गुदवाया है लेकिन उनका प्रेमी मुसलमान है. घरवाले अड़े हैं कि वो अपनी बेटी को मुसलमान नहीं बनने देंगे.

लेकिन अब वो अपने मां-बाप के साध जाएगी या अपने प्रेमी के ये फ़ैसला उसे नहीं, अदालत को करना है.

इन सब घटनाओं के बीच, प्रेम को जहां होना है हो रहा है. भले ही अंजाम कुछ भी हो.

(इस रिपोर्ट में सभी लड़कियों के नाम बदले गए हैं)

(For BBC Android's Android app you Click here can do. You us Facebook, Twitter, Instagram And YoutubeBut also can follow.)

[ad_2]
Source link

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
Close